सुकन्या समृद्धि खाता योजना

 

 

 

‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ ‘अभियान के तहत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा शुरू की गयी सुकन्या समृद्धि खाता योजना का उद्देश्य भारत में बालिकाओं का उज्ज्वल भविष्य सुनिश्चित करना है । यह योजना बालिकाओं को उच्च शिक्षा और शादी के खर्च से चिंतामुक्त होने की सुविधा के लिए है साथ ही उनके माता-पिता और अभिभावकों को भी वित्तीय सुरक्षा और स्वतंत्रता प्रदान करेगा | इस योजना के तहत खाता खोलने के लिए विभिन्न वित्तीय संस्थाओं को अधिकृत करने की प्रक्रिया में है साथ ही किसी भी पोस्ट ऑफिस या राष्ट्रीकृत बैंकों की शाखा में खाता सकते हैं |

योजना से जुड़े महत्वपूर्ण बिंदु

  1. कन्या के 10 वर्ष के वयस्क हो जाने तक, सुकन्या समृद्धि खाता योजना के तहत उसका खाता खोला जा सकता है|
  2. इस योजना के तहत एक कन्या का केवल एक ही खाता खोलने की अनुमति है|
  3. उपभोक्ता अपनी स्वेक्षानुसार किसी भी डाकघर में या अधिकृत बैंकों में खाता खुलवा सकते हैं|
  4. खाते में राशि जमा करने की अधिकतम सीमा 1,50,000 रुपये प्रति वर्ष है|
  5. खाते की परिपक्वता अवधि खाता खोलने की तिथि से 21 वर्ष है।
  6. सुकन्या समृद्धि खाता एक पोस्ट ऑफिस या बैंक से भारत में कहीं भी transfer किया जा सकता है|

सुकन्या समृद्धि खाता खोलने के लिए आवश्यक दस्तावेज़

 सुकन्या समृद्धि खाता खोलने की प्रक्रिया काफी सरल और सामान्य है और इसमें बहुत ज्यादा दस्तावेज आवश्यक नहीं है । योजना के तहत एक खाता खोलने के लिए आवेदन करते समय निम्लिखित दस्तावेज जरुरी है-

  1. बालिकाओं का जन्म प्रमाण पत्र |
  2. माता-पिता / अभिभावक के पते का प्रमाण (Address Proof)
  3. माता-पिता / अभिभावक का पहचान पत्र |

सुकन्या समृद्धि खाता योजना के लाभ

  1. बाजार में सबसे उच्च और अच्छी ब्याज दर |
  2. आयकर अधिनियम की धारा 80 सी के तहत पूर्ण कर लाभ |
  3. परिपक्वता राशि बालिकाओं को सीधे दी जाती है |
  4. यदि खाता धारक या जमाकर्ता द्वारा खाता बंद नहीं किया जाता है तो ब्याज खाते की परिपक्वता के बाद भी दिया जाएगा |
  5. जमा की संख्या की कोई सीमा तय नहीं है |
  6. खाते को भारत में कहीं भी स्थानांतरित किया जा सकता है |
  7. बालिका अगर चाहे तो वह अपने खाते को स्वयं संचालित कर सकती है | इस के साथ ही बालिकाओं के लिए वित्तीय स्वतंत्रता के बहुत से मौके प्रदान करती है |

Share This