राजनीतिक सफ़र

 

 

 

अजय गोयल जी 1977 में केवल 16 वर्ष की उम्र में, जनता युवा मोर्चा के मंडल अध्यक्ष बने. तत्कालीन मध्य प्रदेश के मुखिया श्री सुन्दरलाल पटवा जी से भी उनका सीधा संवाद रहा. 6 अप्रैल 1980 में जब बॉम्बे में उन्हें भाजपा पार्टी की स्थापना में स्व. श्री लरंगसाय जी, पंडित रेवतीरमण मिश्र व शिवप्रताप जी के साथ सम्मिलित होने का सौभाग्य प्राप्त हुआ, वे भारतीय जनता पार्टी से जुड़ गए. उनके ओजस्वी व्यक्तित्व को देखते हुए उन्हें सरगुजा भारतीय जनता युवा मोर्चा के जिला उपाध्यक्ष होने का दायित्व सौंपा गया. स्व. लरंगसाय जी की अध्यक्षता में वे पार्टी के कई आंदोलनों का भी हिस्सा रहे जिनमें रामशिलापूजन, किसान कर्ज माफी, रेल रोको आंदोलन आदि प्रमुख थे. वे पार्टी के कई प्रमुख नेताओं से सीधे संपर्क में रहे जिनमें श्री कुशाभाऊ ठाकरे जी, लखीराम जी, केशव दवे जी एवं रामप्रताप जी जैसे बड़े नाम शामिल हैं. उनके सफल नेतृत्व एवं भविष्यदर्शी नज़रिए की बदौलत आने वाले वर्षों में उन्हें पार्टी में अन्य कई दायित्वों के निर्वहन का कार्यभार सौंपा गया जिनमें किसान मोर्चा, व्यापारी प्रकोष्ठ, जिलामंत्री, जिला अध्यक्ष समेत कई दायित्व शामिल हैं.

उनके द्वारा वहन किए गए दायित्वों का सिलसिलेवार विवरण कुछ इस प्रकार है :

1980 से 93 तक जनता युवा मोर्चा के जिला उपाध्यक्ष.

1983-93, अविभाजित बिश्रामपुर की सबसे बड़ी ग्राम पंचायत शिवनन्दनपुर के सरपंच,

(वर्तमान में शिवनंदनपुर नगर पंचायत बिश्रामपुर के अंतर्गत आता है)

जनपद सदस्य – इसी बीच वे सूरजपुर जनपद में जनपद सदस्य भी रहे और सत्तासीन कांग्रेस की विचारधारा से प्रखरता से संघर्ष करते रहे

1993 से 96 तक जिलामंत्री.

1996 से 98 तक जिला संयोजक व्यापारी प्रकोष्ठ (सरगुजा).

1998 से 2003 तक जिलाउपाध्यक्ष.

2003 से 2010 तक महामंत्री.

2010 से 2016 तक जिलाध्यक्ष (अविभाजित सरगुजा के अंतिम और सूरजपुर जिला के प्रथम जिलाध्यक्ष).

इसी बीच वे 2005 में अपेक्स बैंक के डायरेक्टर भी रहे. वर्तमान में अजय गोयल जी जिला सहकारी केंद्रित बैंक के संचालक हैं.

दीनदयाल जी के विचारों को बल देने के उद्देश्य से समय- समय पर सरगुजा- लोकसभा और तिलखा – विधानसभा चुनावों का कुशल संचालन भी किया.