मेरे विचार

 

 

 

श्री अजय गोयल जी की सोच है कि जिस प्रदेश में वे रहते हैं वहां स्वास्थ्य-स्वच्छता के साथ-साथ वे सभी लोगों का शैक्षणिक विकास कर सकें. मुख्यतः कृषकों को विकसित करना उनकालक्ष्य है क्योंकि उनका मानना है कि कृषक ही भारतीय अर्थव्यवस्था की नींव हैं.

उनका कहना है कि नेतृत्व करने का मौका मिलने पर वे अपनी व्यक्तिगत सोच को मुख्यधारा से जोड़ सकेंगे. संगठन मौका दे तो विधान सभा का नेतृत्व कर सभी के लिए सकारात्मक ऊर्जासे सेवा करना उनका उद्देश्य है.